छठ पूजा विशेष ! - News Beyond The Media House

News Beyond The Media House

झूठी खबरों की पोल खोल EXPOSE FAKE NEWS झूठी खबरों की पोल खोल EXPOSE FAKE NEWS झूठी खबरों की पोल खोल EXPOSE FAKE NEWS झूठी खबरों की पोल खोल EXPOSE FAKE NEWS झूठी खबरों की पोल खोल EXPOSE FAKE NEWS झूठी खबरों की पोल खोल EXPOSE FAKE NEWS झूठी खबरों की पोल खोल EXPOSE FAKE NEWS झूठी खबरों की पोल खोल EXPOSE FAKE NEWS झूठी खबरों की पोल खोल EXPOSE FAKE NEWS झूठी खबरों की पोल खोल बिकाऊ मिडिया पर जोरदार प्रहार BY विकास बौंठियाल !!

नया है वह

Home Top Ad

Post Top Ad

Saturday, November 2, 2019

छठ पूजा विशेष !

मेरे उत्तर भारतिय, बिहारी, झारखंड़ और मध्यप्रदेश और नेपाल के सभी मित्रों को सूर्य देवता के पर्व “छठ पूजा” की शुभकामनाएँ !
 छठ मईया पूरे विश्व का कल्याण करे !


          मैने कई मराठी मित्रों को छठ पूजा का मजाक उडाते और युपी-बिहारियों की खींचाई करते देखा है। मैं अपने महाराष्ट्रियन मित्रों को केवल इतना कहुँगा की जब किसी बात के बारे में जानकारी ना हो तो किसी के त्योंहारों का उपहास नहीं करना चाहिए। तुम राम-कृष्ण को मानते हो तो युपी-बिहारी भी उन्हीं को मानते हैं और सबसे मुख्य बात की राम-कृष्ण स्वयं इन त्योहारों को मनाते थे तो तुम युपी-बिहारियों को मुर्ख समझते हो मतलब तुम्हारे विचार राम-कृष्ण के बारे में भी वैसे ही होंगे ?

!! जय छठ मईया !!

संगठन में शक्ती है इसलिए हम सब एक है !

!! जय युपी , जय बिहार, जय महाराष्ट्र !!
!! जय भारत !!

          पृथ्वी से सूर्य की दूरी, सूर्य से निकलने वाली पराबैंगनी किरणे (Ultraviolet rays), सूर्य से निकलने वाले के Micro sound wave को हमने अरबों-खरबों वर्ष से भी पहले याने पृथ्वी के बनने से भी पहले ही समझ लिया था और छठ पूजा इसका प्रमाण है।


          अंग्रेजों को तो ७-८ सौ साल पहले ही पता चला है की पृथ्वी गोल है और पृथ्वी सूर्य के चक्कर लगाती है। ये बात NASA को भी लगभग डेढ़ सौ साल के आसपास ही पता चली जबकी हमें यह लाखों साल पहले से पता है जिसका सबूत हमारे ज्योतिष शास्त्र है जिनमें सूर्य से लेकर चंद्र, मंगल, शनी , बुध, गुरू, राहु-केतू और भी बहुत कुछ का Calculation लाखों सालो से किया जाता रहा है।

एक मामूली सा पंडित सिर्फ एक मुट्ठी गेहुँ या चावल लेकर सूर्य समेत सारे नक्षत्रों का Calculation करके हजारों साल पहले जन्मपत्रिका (कुँड़ली) बनाता था। जरा सोचो की एक मामूली सा पंडित इतना ज्ञान रखता है तो एक तपस्वी, योगी, ऋषी, शंकराचार्यजी और एक प्रज्ञ्यांड ब्राह्मण कितना ज्ञान रखता होगा।
 

          English Medium में पढ़े मेरे आदरणिय मित्रों और कुछ Albert Einstein होशियारचंद Type के लिबरांडुओं को केवल इतना कहना चाहुँगा की लाखों साल से हम सूर्य की पूजा करके उसे धन्यवाद देते आएँ है क्योंकी हमें ये बात लाखों सालो से पता है की सूर्य ही हमारे सौरमंडल और पृथ्वी का संचालक है और सूर्य ही इस धरती पर हमें जीवन प्रदान करता है। इसलिए सूर्य की बहन “छठ मईया” की पूजा एक वैज्ञानिक पर्व है और हमें इन त्योहारों पर गर्व होना चाहिए।  अपने बच्चों को Convent School में पढाकर बेवकुफ अंग्रेज या ईसाइ बनाने से अच्छा है की उन्हें हम किसी Municipal School में डालें और पैसे बचाकर उन पैसों से संस्कृत और वेदों का ज्ञान देकर महा-मानव बनाये।

ऊँ: सूर्य देवाय नम:

!! जय छठ मईया !!


Writer :- Vikas Bounthiyal
Edited by :- NA
Source of article :- Real life experience 
Source of images :- Google non-copyrighted images
Length of the article :- 478 Words (Calculated by wordcounter.net)


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here

Pages