ये कैसा भाईचारा ? - News Beyond The Media House

News Beyond The Media House

झूठी खबरों की पोल खोल EXPOSE FAKE NEWS झूठी खबरों की पोल खोल EXPOSE FAKE NEWS झूठी खबरों की पोल खोल EXPOSE FAKE NEWS झूठी खबरों की पोल खोल EXPOSE FAKE NEWS झूठी खबरों की पोल खोल EXPOSE FAKE NEWS झूठी खबरों की पोल खोल EXPOSE FAKE NEWS झूठी खबरों की पोल खोल EXPOSE FAKE NEWS झूठी खबरों की पोल खोल EXPOSE FAKE NEWS झूठी खबरों की पोल खोल EXPOSE FAKE NEWS झूठी खबरों की पोल खोल बिकाऊ मिडिया पर जोरदार प्रहार BY विकास बौंठियाल !!

नया है वह

Home Top Ad

Responsive Ads Here

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Wednesday, December 5, 2018

ये कैसा भाईचारा ?

दिलों से मज़हबी साज़िश का अब तक डर नहीं जाता,
वो मेरे घर नहीं आता, मैं उसके घर नहीं जाता ?

तुम्हें मंज़ूर है झुकना झुकाओ सर मजारो पर ,
मगर मैं तो किसी चौखट, किसी दर पर झुकाने सर नहीं जाता ?

वतन के रहनुमा बनकर वतन के साथ गद्दारी,
तुम्हारा सच है जग-ज़ाहिर, कहा खुलकर नहीं जाता ?

भरोसा बाजुओं पर है मुझे अपनी हमेशा से,
चढ़ाने मैं मज़ारों पर कभी चादर नहीं जाता ?

तुम्हारे मस्ज़िद से मयख़ाना बहुत बेहतर है,
चलाया पीठ पर यारों यहाँ ख़ंजर नहीं जाता ?

तुम्हारी ही दुआएं थी जो कृष्णा जी लिए कुछ दिन,
तुम्हारी बद्दुआ होती तो कब का मर नहीं जाता !

✍️कृष्णा पांडे




श्मीरी पंडितों दर्द बयां कराती एक कविता https://vikasbounthiyal.blogspot.com/2018/11/blog-post.html

      

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here

Pages